future

dream

ढूँढता हूँ
खेतिहर का रंग आयी
आफ़त नही नियम चाहिये
लड़प्पन के दिन आयेगें नही
सभी के जीवन में क्या-क्या दिया होगा तुमने?
कुदरत को समझना पड़ेगा
जग की चादर में सोयेगें