future

dream

ख़ौफ़ की रथ
कुदरत ही ज़िंदगी है
दरिद्र
अँधेरे की डोर
ठहर भी जायेगें
क्या करुँ?
दूर खड़े