future

Showing posts from 2019Show all
किस्मत कहाँ? फूटेगी,भविष्य कहाँ? निकलेगी
जो दिल बोलेगा वही लिखूँगा
परी थी,सुहानी थी
शायरी
क्यों? पहचान की बात करते हो
शहींदो ने माटी को गुलामी नही,आज़ादी बनायी
शंका में ही शक का संदेश आया
भूमंडल में ख्वाब हूँ
मदहोश बना गया  हूँ
संसार छोड़ेंगे, कहाँ? होंगे
चलते है, काल के अतीत में
 देश जल रहा है,अग्नि के राख में
कदम पर डग नही है चल रहा हूँ
कदम कही  ठहर ना जाये
जीवन जीओ,तमन्ना बनाकर दिखाओ
बेहद दर्द  था उसकी बात
विधाता की राग में जाना चाहता हूँ
कविता तुम ही हो
हाथ बाँधा है, पथ घिरा हैं
किसने? कैसे? क्यो? बनाया ,समझ नही आया
अजान हूँ मैं,अजान ये जीवन
हिन्दी है हम,हिन्दुस्तान हमारा
क्या?पल था,कैसे? बताऊँ
मत लड़ो,कुदरत से
मेरा ख़्वाब हो
क्रोध में डुबा हूँ
माटी ने ऐसा इतिहास बताया
लक्ष्य को छोड़ा नही
ये जहान को मौन देखता हूँ
नारी को काली देवी बनाओ
कुदरत से मेरा नाता है
वीर तुम जागो,बेटियाँ तुम बचाओ
छोटा सा गाँव है मेरा
वक्त के शिकन्जे में आकर रोया हूँ
मैं अब जागा हूँ
वक्त तो चला ही गया
चिंगारी को मिटाने ना दूँगा
खोया सा दिल है
संघर्ष से क्यों भागते हो?
चिपके रहेगें पेड़ो के साथ रहेगें
वक्त तुझे बतायेगा
कविता वही है
ज़िंदगी अंधेरी हैं
सच्चाई की राग
जन्म लियो हो ,जीवन जीओ
शहर की परिभाषा
एक छोटी सी बात
धरती को बदल डाला हम लोगों ने
कुछ सीखा हूँ
कुछ बातें,समझा नही सकता