future

मौसम आज श्रावण बनकर आयेगा

*कविता*

श्रावण बनकर आयेगा
मौसम को बुलायेगा
बादल आज रंग लायेगा
अम्बर से नीर आज बरसेगा
धरती को आज नहलायेगा

नीर का बादल आज आयेगा
मौसम का संगीत लेकर जायेगा
इन्द्रधनुष को साथ लेकर आयेगा
सुखी भूमि का आज प्यास बुझायेगा

आज सुहानी रात लेकर आयेगा
आज चकमते बादल को बुलायेगा
पोखर को नीर से आज भर पायेगा
चारों दिशाओं में हवा आज बनायेगा

खेतों के फसल आज लहरायेगा
तिरंगे में आज ये रंग दिखायेगा
सुहानी हवायें आज लहरायेगा
ठन्डी मौसम आज चलायेग

अम्बर से आज नीर बरसेगा
सुहानें मौसम का सुकून मिलेगा
चमकते बादलों का आज बरसात खुलेगा
सुन्दर कली आज फुल बनकर खिलेगा

रचयिता:रामअवध



Post a Comment

0 Comments