future

कहानी बुलाती है

*कविता*कहानी बुलाती है

कहानी भी जवानी होती है
सुनाने पर ज़मानी होती है
क्या? ताज़गी पल होती है वै
सुहाने पल पर क्या?आती है वै

बीते पल को कहानी बुलाती है
ज़िंदगी की जवानी हमें बताती है
वक्त की कदम आगे चला गया
बीते क्षण की डगर पीछे रह गया

बीते पल हम अजान थे
बचपन की याद में बेजान थे
कही तो ये यादें छूट गया
वक्त तो ये कही रूठ गया

पल भी बड़ा रंग बदलता था
ज़िंदगी हमारे साथ बीताता था
करुणा की चादर में सोते थे
अरुणा की बादल में खोते थे

स्याही का सागर था मेरे पास
ज़िंदगी का सादर था मेरे पास
जिंदगी की यादें बुलाती है
समय अब हमें भुलाती है

रचयिता:रामअवध


Post a Comment

0 Comments